window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); एक बार लौटा दो मेरे वो दिन - MPCG News

एक बार लौटा दो मेरे वो दिन

उमरार नदी का नाता उमरिया के जन्म से जुड़ा हुआ है इतिहास विदो की माने तो उमरार नदी के किनारे लगा हुआ ऊमर का पेड़ था जिससे इस नदी का नाम उमरार पड़ा और उमरार के बाद उमरिया का नाम पड़ा यह नदी उमरिया की जीवन दायनी कही जाती है लगभग दो दशक से पहले इस नदी का जल भी निर्मल होता था और लोग इसके पानी का उपयोग पीने के साथ साथ बड़े बूढ़े बच्चे इसमें तैराकी का आनंद लेते थे लेकिन आज इस नदी की स्थिति यह है की इसके नजदीक जाने में लोग घबराते है उमरिया जिले में इस नदी ने अपने जन्म से दर्जनों गांवों को अपना पानी पिलाया है लेकिन आज इस स्थिति का जिम्मेदार कौन निश्चित रूप से वर्षो से चली आ रही सरकारें और प्रशासन और आम जनमानस इसका जिम्मेदार है क्योंकि आज दिनांक तक सरकार और प्रशासन ने इसके उद्धार के लिए कोई ठोस रोड मैप नही है वर्षो से नदी के किनारे कब्जे का खेल चल रहा जिसे रोक पाने में प्रशासन नाकाम साबित हुईं हैं इस वजह से ही सीवर का सारा गंदा पानी नदी में ही विलीन हो रहा है शहर के इस गंदे पानी के निकासी की समुचित व्यवस्था नहीं है वर्षों से यह गंदा पानी नदी को मैला कर रहा है आज लंबे समय के बाद जिले में ऐसे अधिकारी का पदार्पण हुआ जिनके द्वारा नदी को पुनः पुराने स्वरूप में पहुंचाने का संकल्प लिया गया जिनके आह्वान के बाद बहुत सारे सामाजिक संगठनों ने नदी सफाई का जिम्मा उठाया और लगातार आज भी श्रमदान किए जा रहे हैं इस पहल की सराहना केवल सत्ता धारी पार्टी के लोगों ने नहीं बल्कि विपक्ष पार्टी के लोगों ने भी कलेक्टर उमरिया के इस काम की सराहना की है निश्चित रूप से यह सराहना करने योग्य है लेकिन विद्वानों का यह भी मानना है केवल श्रमदान से नदी को पुराने स्वरूप में नहीं ले जाया जा सकता इसके लिए सरकार और प्रशासन को ठोस कदम उठाने होंगे आज इस सदी में बढ़ रहे बच्चे तैराकी जैसे गुण से वंचित है और भविष्य में शायद इस गुण को सीख भी नही पाएंगे क्योंकि इसके लिए उमरिया जिले कोई रास्ता नही है हर व्यक्ति इतना सक्षम नहीं है कि वह वाटर पार्क जैसी महंगी जगह में जाकर बच्चों को तैराकी के गुण सिखाए या सिखा सकें क्योंकि यह गुण सीखना एक 01 या 2 दिन का काम नहीं है यह तो साइकल जैसे सतत प्रयास का काम हैै जिसमें एक लंबा समय लगता है आज नदी की इस दुर्दशा के कारण ही नल जल योजना को उमरिया स्थित डेम से जोड़ा गया और इससे केवल केवल इतना ही हुआ की लोगों की समस्याएं और बढ़ गई क्योंकि नल जल योजना का ये हाल है की आज भी लोगो तक सही तरीके से पानी नहीं पहुंच पाा रहा है विगत वर्ष इस नल जल योजना के बाद डेम में पानी के कमी का हवाला देते हुए दूसरे सबसे महत्वपूर्ण काम खेती के लिए पानी नहीं दिया गया जिससे जिले का अन्नदाता परेशान हुआ ये कैसी व्यवस्थाएं है लोगो के समझ के परे है सूत्रों की माने तो अभी तक नदी के नाम पर केवल केवल पैसों का बंदर बांट किया गया है न जाने जब तक जिले वाशियो को वो उमरार नदी फिरसे वापस मिलेगी जिसमे लोग छलांग लगाकर गोताखोरी करते हुए तैराकी के गुण सीखा करते थे

Related posts

यातायात पुलिस के डिप्टी कमिश्नर द्वारा पलासिया चौराहे पर यातायात के नियमों का पालन करने वालों को किया गया प्रोत्साहित*

MPCG NEWS

Thong jeans are just the latest weird fashion trend

MPCG NEWS

केंद्र सरकार भरेगी निर्धन कैदियों का अर्थदंड जमानत राशि जमा न कर पाने वालों का मांगा ब्योरा

MPCG NEWS

Leave a Comment