window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); MP ब्रेकिंग: 10वीं-12वीं छात्रों को प्रश्नपत्र बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, टेलीग्राम ग्रुप में सक्रिय मंडीदीप से आरोपी गिरफ्तार - MPCG News

MP ब्रेकिंग: 10वीं-12वीं छात्रों को प्रश्नपत्र बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, टेलीग्राम ग्रुप में सक्रिय मंडीदीप से आरोपी गिरफ्तार

शिक्षा मंडल ने जारी किए छात्रों के लिए एडवाइजरी

भोपाल। प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा संचालित 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के नाम से प्रश्न पत्र इंटरनेट मीडिया के माध्यम से बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। क्राइम ब्रांच ने शनिवार को मंडीदीप से इस मामले में एक युवक को गिरफ्तार किया है। उसके द्वारा बनाए गए टेलीग्राम ग्रुप में बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले 35 हजार विद्यार्थियों के नंबर मिले हैं। शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि उसने 600 छात्रों से करीब साढ़े तीन लाख की ठगी की है।

मंडीदीप से गिरफ्तार आरोपी

डीसीपी क्राइम अमित कुमार ने बताया कि बोर्ड परीक्षा के प्रश्न पत्र बेचने के मामले में मंडीदीप, जिला रायसेन निवासी कौशिक पुत्र श्याम कुमार दुबे को गिरफ्तार किया है। बीकाम के छात्र कौशिक ने टेलीग्राम ग्रुप में बोर्ड परीक्षा का पेपर एक लिंक बनाकर 600 से 1000 रुपये तक में कई छात्रों को बेचा था। उसके पास से एक बैंक की पासबुक, मोबाइल फोन और दो सिमकार्ड बरामद किए गए हैं। वह लगभग दो साल से इस तरह की ठगी को अंजाम दे रहा था।

10–12 टेलीग्राम ग्रुप सक्रिय होने की जानकारी मिली

डीसीपी ने बताया कि इस मामले में एक संदेही से भी पूछताछ की जा रही है, जबकि दो लोगों की तलाश भी की जा रही है। जांच में अभी तक पुलिस को इस तरह के 10–12 टेलीग्राम ग्रुप के सक्रिय होने की जानकारी मिली है, जिनके माध्यम से प्रश्न पत्र बेचने का काम चल रहा है। साथ ही उस बैंक के खाते के बारे में भी जानकारी मिली है, जिसमें ठगी की राशि जमा होती है।

यह था वारदात का तरीका

आरोपित ने इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म पर माध्यमिक शिक्षा मंडल के मोनो का उपयोग कर एक फर्जी ग्रुप बनाया। इसके बाद 10 वीं, 12 वीं के प्रश्नपत्र उपलब्ध कराने का झांसा देकर वह विद्यार्थियों से रुपये वसूलता था। पैसा मिलने के बाद वह संबंधित छात्र को पेपर भेजता था। पूछताछ में उसने पुलिस को बताया कि वह पेपर टेलीग्राम ग्रुप एमपी बोर्ड हेल्प से प्राप्त करता था।

परीक्षार्थियों के लिए एडवाइजरी जारी

साइबर क्राइम ब्रांच ने इस मामले में परीक्षार्थियों के लिए एडवाइजरी भी जारी की है।

  • कोई भी व्यक्ति परीक्षा पूर्व प्रश्‍न पत्र लेने के प्रलोभन में न आए। प्रश्‍न पत्र के बदले में किसी को भी पैसे न दे।
  • असामाजिक तत्वों द्वारा पैसे कमाने के लिये गैस पेपर या डमी पेपर भेजे जाते हैं। व्यक्ति को भरोसे में लेने के लिए माशिमं के लोगो (मोनो) का उपयोग किया जाता है। ऐसे किसी झांसे में न आएं।

Related posts

पत्रकारों को धमकाने पर लगेगा जुर्माना व होगी जेल, केंद्र व राज्य सरकारों का एलान सरहानीय : नवीन बंसल

MPCG NEWS

दलगत राजनीति से ऊपर उठकर निवेदन है: मुलताईं में ट्रेनों का स्टॉपेज कराए, विधायक पांसे ने सांसद से कहा

MPCG NEWS

मुलताई: सिंगल यूज प्लास्टिक बेचने वाले व्यापारियों पर कार्रवाई, भारी मात्रा में प्लास्टिक, डिस्पोजल जप्त

MPCG NEWS

Leave a Comment