window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); सारणी: मनमाने दामों में बिक रही शराब, नहीं हो रही कार्रवाई - MPCG News

सारणी: मनमाने दामों में बिक रही शराब, नहीं हो रही कार्रवाई

शराब के ठेकाें पर सेल्समैन प्रिंट रेट से अधिक रुपए कर रहे हैं वसूल

सारणी। शहर में आबकारी विभाग की लापरवाही के चलते शराब की दुकानों पर मनमानी कीमत वसूली जा रही है। शराब की दुकानों पर शाम 7 बजे बाद अवैध रूप से शराब बेच कर तय कीमत से ज्यादा राशि वसूलने की शिकायते तो होती रही लेकिन दिन में भी शराब की तय कीमतों से ज्यादा राशि वसूली जा रही है। शराब पर तय कीमत से लगभग 20 से 50 रुपए तक ज्यादा वसूले जा रहे हैं।

मामला सारनी क्षेत्र की शराब दुकानों का है जहा एमआरपी रेट से ज्यादा दामों में शराब बेची जा रही है, जैसे की बीयर 150 एमआरपी है तो वही इसका 190 रुपए प्रति बीयर लिया जा रहा है। जिसका ना तो बिल मिलता है और ना ही रेट लिस्ट लगाई गई है। छोटी से लेकर बड़ी बोतलों में भी मनमाने दाम वसूल रहे शराब ठेके के सेल्समैन।

इतना ही नहीं शराब बिक्री के बंद होने के बाद भी कई जगह बिना किसी रोकटोक के शराब बेचे जा रही है। आबकारी विभाग इसको रोक पाने में पूरी तरह नाकाम साबित हो रहा है। कहने को तो रात 11 बजे के बाद शराब बिक्री पर रोक लगी हुई। लेकिन शराब की कई दुकानों पर रात 11 बजे बाद के बाद भी बेखौफ बिकती है। कई ठेकों पर तो शराब दूसरी जगह छिपा दी जाती है और ठेके पर आने वाले व्यक्ति को बेची जाती है। इस पर 20 से 50 रुपए तक ज्यादा वसूली जाती है। इन पर कार्रवाई करने वाले अधिकारी मौन बैठे है।

शराब की रेट लिस्ट और बिल दोनो ही नही देते सेल्समैन

शराब पीने वालों को शराब महंगी मिले या सस्ती इससे वह वास्ता नहीं रख रहे है। जिसका फायदा शराब ठेकेदार भी जमकर उठा रहे हैं। तय रेट से भी महंगे दामों पर देशी व विदेशी शराब ठेकेदारों द्वारा बेची जा रही है, लेकिन ऐसेे ठेकेदारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। परिणाम स्वरूप शराब का शौक रखने वाले इन शराब ठेकेदारों के यहां पर लुट रहे है। नियमानुसार इन ठेकेदारों को शराब की रेट लिस्ट दुकानों पर चस्पा करनी चाहिए। वहीं तय एमआरपी के अनुसार ही शराब बेचनी चाहिए, लेकिन महंगे दामों पर बेच रहे है और शराब के शौकीन मजे से खरीद भी रहे हैं। शर्मींदगी के चलते शराब के शौकीन शिकायत करने से कतराते हैं। जिसके चलते ठेकेदारों पर भी कार्रवाई नहीं हो पाती है। जानकारी के मुताबिक जब यह शराब आबकारी विभाग के माध्यम से आती हैं और पूरी लिखा पढ़ी होती हैं जिसके चलते एक नंबर की शराब तो सस्ती होना मुश्किल है। सूत्र बताते हैं कि ठेकेदार दो नंबर की शराब बुला कर गांव-गांव में बिक्री कर रहा है, जिससे उसे अधिक लाभ मिलता है और सस्ती शराब मिलने से गांव के लोगों को दूर भी नहीं जाना पड़ता। युवा पीढ़ी भी शराब पीने की आदी होती जा रही है।

इनका कहना है –

4 से 5 बार उनके संपर्क किया लेकिन जवाब में काल नही उठाया गया।

गौरव पांडे आबकारी निरीक्षक सारणी

Related posts

22 जनवरी को राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में न आएं अयोध्या’ PM मोदी ने हाथ जोड़कर जनता से की अपील

MPCG NEWS

मुलताई नपा CMO की केलक्टर से हुई शिकायत

MPCG NEWS

चोरी की मोटर सायकल सहित 1 गिरफ्तार, थाना जयनगर पुलिस की कार्यवाही।

MPCG NEWS

Leave a Comment