window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); पोयम,,, खुद की खोज,,,, खूबसूरत कविता संग्रह - MPCG News

पोयम,,, खुद की खोज,,,, खूबसूरत कविता संग्रह

हरदा

समझदारी से मेरी दोस्ती है अब
नादानियों से मेरी जंग हो गई।।

ख्वाबों से बातचीत नहीं मेरी
अब मनमौजी मेरी बंद हो गई।।

जिम्मेदार होने का एहसास है फकत
ख्वाहिशें भी मेरी खत्म हो गई।।।

दुनियां में अपनों की कमी कहां
खुद से बातें ही मरहम हो गई।।।

रिश्ते सब नाम काम के है
प्यार की लहर इनमें मंद हो गई।।।

वक्त कहां की ठहर जाए ज़रा
खुशियों की वजह भी चंद हो गई।।

दुनियां की भाग दौड़ में
ना जाने कब मैं खुद गुम हो गई।।

🖊️🖊️🖊️🖊️🖊️
कविता सरोदे( हरदा )

Related posts

फेरी लगाने बाला तंत्रमंत्र कर सास बहु का मगलसूत्र पारकर भागा।

MPCG NEWS

जिला जेल के कैदी भाइयों को सिखाया राजयोग बदला ना लेकर बदलने की दी सिख।

MPCG NEWS

Google की बड़ी कार्रवाई, प्ले-स्टोर से हटाए 2,200 फर्जी लोन एप, सरकार ने दी जानकारी

MPCG NEWS

Leave a Comment