window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रही नल जल योजना एवं उनसे संबंधित टंकियां। - MPCG News

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रही नल जल योजना एवं उनसे संबंधित टंकियां।

जुन्नारदेव।      राकेश कुमार बारासिया

जुन्नारदेव में इस समय भ्रष्टाचार का अतिशय बोलबाला है जिस तरफ भी नजर पड़ती है उसे तरफ ही भ्रष्टाचार दिखाई देता है। जिला छिंदवाड़ा भ्रष्टाचार का गढ़ बनता जा रहा है। शासन के आदेशों को तो लोग ठेंगा दिखाते ही नजर आते हैं जैसे उन्हें किसी का कोई डर ही ना हो। चाहे केंद्र की योजना हो, चाहे राज्य की योजना हो, जिस भी जनप्रतिनिधि एवं शासकीय कर्मचारी को लगता है वह अपने हिसाब से ही अपने विभागों में कार्य करता रहता है। हाल ही में रिश्वत लेते पटवारी को लोकायुक्त ने रंगे हाथों पकड़ा है साथ ही जुन्नारदेव विधानसभा क्षेत्र के काफी ग्राम पंचायत मे मनरेगा के तहत जेसीबी से खेत तालाब, मेड़ बढान के कार्य कराए जा रहे हैं। कई ग्राम पंचायत तो ऐसे हैं जहां मेड बंधान, खेत तालाब केवल कागजों में बन गए हैं प्रत्यक्ष में ना कहीं मेड बंधान है, ना ही कहीं खेत तालाब। केंद्र की योजना अनुसार घर-घर तक ग्राम वासियों को पीने की पानी की समस्या को खत्म करने के लिए नल जल योजना का कार्य तीव्र गति से चल रहा है वही इस योजना एवं कार्य में भ्रष्टाचार जमकर उजागर हो रहा है।

ग्राम पंचायत सांगा खेड़ा में नल जल योजना शासन के आदेशों को अंगूठा दिखाते हुए नजर आ रही है, इसमें नल जल योजना के नाम पर कार्य तो संपूर्ण हो गया है लेकिन लोगों के घर पर पानी नहीं पहुंच पा रहा है। जल संग्रह करने के लिए बनी हुई टंकी अपनी संपूर्णता के पहले ही अपने भ्रष्टाचार का रोना रो रही है, सांगा खेड़ा पंचायत में बनाई गई टंकी भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है, टंकी बनने और उसके शुभारंभ से पहले ही टंकी की सारी सीढ़ियां अपना अस्तित्व खो चुकी है। प्राप्त एवं मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की अंतिम छोर में बसे ग्रामों में योजनाओं की स्थिति बद से बदत्तर है। ग्राम पंचायत सांगा खेड़ा में बनने वाली टंकी, बनने के पहले से ही विवादों से घिरी हुई थी। इस टंकी निर्माण कार्य में ट्रैक्टर से सामान लाते समय एक बालक की मृत्यु भी हो चुकी है। सांगा खेड़ा पंचायत में बनी इस टंकी में बहुत ही घटिया प्रकार के सामान का इस्तेमाल किया गया है जिसकी वजह से यह टंकी कमजोर साबित हो रही है अगर गहराई एवं सूक्ष्मता से इस टंकी की जांच कराई जाए तो इसमें बहुत सी कमियां निकल सकती है। अगर इसी तरह बिना किसी जांच के टंकी को लीपापोती कर खड़ा कर दिया गया तो आने वाले समय में बहुत ही जल्द बड़ा हादसा होने का खतरा बना रहेगा, क्योंकि टंकी की क्वालिटी बहुत ही खराब दिखाई दे रही है । टंकी बनने से पहले ही धराशाई होने की कगार पर है, ऐसे में ग्राम वासियों को नल जल योजना का लाभ मिल पाना काफी कठिन होता दिखाई दे रहा है। गर्मी के दिनों में प्रत्येक ग्रामवासी पानी की समस्या का सामना करते हैं जिनके लिए ही केंद्र की योजना द्वारा घर-घर तक नल कनेक्शन पहुंचा कर उन्हें जल प्रदान करने की सुविधा दी जा रही है। लेकिन कई वर्ष बीत जाने के पश्चात भी आज तक ग्राम वासियों को नल जल योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। ना ही ग्राम पंचायत के अधिकारी, ना जनपद पंचायत के अधिकारी, ना पी एच ई विभाग के अधिकारी, का इस और कोई ध्यान है। और ना ही यह सभी अधिकारी इस कार्य को करना अपना दायित्व समझते हैं, इसी कारण नल जल योजना का लाभ ग्राम वासियों को नहीं मिल रहा है। और जहां नल जल योजना का कार्य पूरा हो गया है वहां कई जगह तो ऐसी स्थिति है कि बोर में पानी ही नहीं है और ग्रामवासी आज भी पहले जैसी स्थिति में ही जल संकट से गुजर रहे हैं

Related posts

लायंस क्लब क्लब के शपथ ग्रहण समारोह हुआ

MPCG NEWS

नये कानून व्यवस्था में न्याय और नागरिकों के संवैधानिक अधिकारों की रक्षा का दिया गया

MPCG NEWS

विकसित भारत 2047 पर परिचर्चा का आयोजन

MPCG NEWS

Leave a Comment