window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); 2, 3एवं 4अक्टूबर को संयुक्त किसान मोर्चा का महापड़ाव _भोपाल चलो - MPCG News

2, 3एवं 4अक्टूबर को संयुक्त किसान मोर्चा का महापड़ाव _भोपाल चलो

लोकेशन गाडरवारा

 

 

 

*2, 3एवं 4अक्टूबर को संयुक्त किसान मोर्चा का महापड़ाव _भोपाल चलो

 

मध्य प्रदेश किसान सभा नरसिंहपुर के अध्यक्ष जगदीश पटेल एवं महासचिव करणसिंह अहिरवार द्वारा जिले के किसानों से अपील की है केंद्र और राज्य सरकारों की किसान एवं मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ एवं स्थानीय मांगो को लेकर राजधानी भोपाल में महापड़ाव डालेंगे। सभी किसान भाइयों से अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने की अपील की है।

देश भर के किसान राज्यों की राजधानियों पर 3दिन का महापड़ाव डालेंगे जिसमें सभी दलों को भी आमंत्रित किया जा रहा है उनसे मांग की जाएगी कि स्वामिनाथ आयोग की सिफारिश अनुसार C2+50 के आधार पर एम एस पी जारी कर एम एस पी गारंटी कानून बनाए, किसानों के कर्ज मुक्त करने सहित अन्य महत्वपूर्ण मांगो को उनके चुनावी घोषणापत्र में शामिल करने की मांग करते हुए ज्ञापन सौंपे जायेंगे, साथ ही मुख्यमंत्री जी को भी 3मंत्रियों सहित बुलाने हेतु उन्हें आमंत्रित किया गया है जिससे किसान मजदूर की मांगो का निराकरण करने का मांगपत्र सौंपते हुए निराकरण की मांग करेंगे।

साथियों दोनों सरकारों ने किसानो से दुश्मनी पाल रखी है ; खेती बर्बाद कर रहे हैं ; किसान इन्हें दण्डित करेंगे*

*संयुक्त किसान मोर्चे के आव्हान पर 2 से 4 अक्टूबर राजभवन पर महापड़ाव डालकर धरना देंगे मध्यप्रदेश के किसान*

 

देश के ऐतिहासिक किसान आन्दोलन से उभर कर सामने आये संयुक्त किसान मोर्चे द्वारा खेती किसानी को बचाने के लिए देशव्यापी आंदोलनों का आव्हान किया गया है । इनमे 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी हत्याकांड की बरसी के दिन देश भर में प्रतिरोध कार्यवाहिया तथा किसान आन्दोलन के शुरू होने की वर्षगांठ 26 नवम्बर से देश भर के राज्यों की राजधानियों में राजभवन के सामने तीन तीन दिन के धरने आयोजित किये जाने के आव्हान शामिल हैं । *मध्यप्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनावों को देखते हुए मध्यप्रदेश के संयुक्त किसान मोर्चे ने इन दोनों आव्हानो को 2, 3, 4 अक्टूबर को भोपाल में धरने के रूप में एक साथ अमल में लाने का फैसला लिया है ।* इस धरने में प्रदेश भर के किसानो के प्रतिनिधि शामिल होंगे ; इस आशय का फैसला पिछले दिनों हुए संयुक्त किसान मोर्चे के प्रादेशिक सम्मेलन में लिया गया ।

 

संयुक्त किसान मोर्चे ने केंद्र तथा प्रदेश सरकारों की किसान विरोधी भूमिकाओं की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि सरकार चाहें मोदी की हो या शिवराज सिंह चौहान की दोनों ने किसानो से जैसे दुश्मनी पाल रखी है । बढ़ती लागत घटती आमदनी से किसानो को राहत देने की बजाय दोनों ही सरकारों ने जैसे खेती और किसानी को बर्बाद करने की ठान ली है । उपज के दाम नहीं मिल रहे – बिजली और डीजल की कीमतें आकाश छू रही हैं । वहीँ घोषित एमएसपी भी नहीं मिल पा रही है । किसान कर्ज के फंदे में फंसकर रहा गया है, बड़े बड़े घरानों के लाखों करोड़ रूपये माफ़ करने वाली मोदी सरकार किसानो के लिए किसी भी तरह का कर्जा मुक्ति या राहत पैकेज लाने के लिए तैयार नहीं है ।

 

संयुक्त किसान मोर्चे के अनुसार सरकारें पूरी निर्लज्जता के साथ बड़ी बड़ी विदेशी और अडानी अम्बानी जैसी कारपोरेट कंपनियों की चाकर और उनके मुनाफे की पालकी के कहार में बदल कर रह गयीं हैं । पूरे देश में जमीन का कम्पनीकरण किया जा रहा है और बड़े पैमाने पर किसान अपनी ही जमीन से खदेड़े जा रहे हैं । न मुआवजा मिल रहा है न रोजगार ही दिया जा रहा है । मप्र इस अन्धाधुन्ध भूमि अधिग्रहण का सबसे बदतर शिकार बना हुआ है ।

 

*2 अक्टूबर से होने वाले इस तीन दिवसीय धरने के जरिये संयुक्त किसान मोर्चा केन्द्रीय स्तर की नीति बदलने और किसान हितकारी नीति बनाने के साथ मध्यप्रदेश के किसानो की प्रदेश स्तरीय मांगे उठाएगा ; अलग अलग अंचलों की विशिष्ट समस्याओं को भी रखा जाएगा ।*

 

देश प्रदेश के श्रमिक कर्मचारी संगठनो के संयुक्त मोर्चे ने भी इस तीन दिनी धरने में भाग लेने की घोषणा की है ।

 

*मुख्यमंत्री किसानो के साथ चर्चा करें ; तीन मंत्रियों को भी साथ रखें*

संयुक्त किसान मोर्चे ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से 2 से 4 अक्टूबर के बाच किसानों के साथ चर्चा करने का समय निर्धारित करने का अनुरोध किया है ।

एस के एम ने मुख्यमंत्री को लिखे एक पत्र में अपनी प्रदेश स्तरीय मांगें भेजी हैं और इन पर चर्चा और इनके समाधान के लिए वार्ता के दौरान कृषि, राजस्व तथा आदिवासी मामलों के मंत्री को भी साथ में रखने का आग्रह किया है ।

 

*किसानो का ज्ञापन लेने हेतु सभी दल आमंत्रित*

संयुक्त किसान मोर्चे ने प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों के प्रमुखों को प्रदेश के किसानो की समस्याओं तथा मांगों का ज्ञापन लेने हेतु आमंत्रित किया है । मोर्चे ने उम्मीद जताई है कि प्रदेश के राजनीतिक दल 2 से 4 अक्टूबर के किसानों के धरने के दौरान आकर उनका ज्ञापन लेंगे और अपने अपने चुनाव घोषणा पत्र में उन्हें प्राथमिकता से शामिल भी करेंगे ।

जगदीश पटेल

अध्यक्ष

मधयप्रदेश किसान सभा नरसिंहपुर मप्र

Related posts

बिग ब्रेकिंग: CM शिवराज की बड़ी घोषणा: सरकार बनने पर हर परिवार में एक व्यक्ति को दूंगा रोजगार, ताकि पलायन न करना पड़े

MPCG NEWS

Fact : 10 वीं बोर्ड की परीक्षाएं अब नहीं होंगी, नयी शिक्षा नीति के तहत, जानिए इस वायरल दावे का सच

MPCG NEWS

ब्रेकिंग: MP में चड्डी बनियान गैंग फिर से सक्रिय, हथियारों के साथ घर में घुसकर की चोरी

MPCG NEWS

Leave a Comment