window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); लापता बालिका के वापिस मिलने और शाला पहुंचने तक मानवीय चेहरों ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका - MPCG News

लापता बालिका के वापिस मिलने और शाला पहुंचने तक मानवीय चेहरों ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

लोकेशन कटनी

जिला कटनी

संवाददाता एस एन तिवारी

 

*लापता बालिका के वापिस मिलने और शाला पहुंचने तक मानवीय चेहरों ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका*

 

*शिक्षा से रोशन होगी रवीना और रवि की जिंदगी*

 

कटनी-: एक गरीब दिव्यांग पिता की चिंता दूर करते हुए कलेक्टर कटनी अवि प्रसाद ने उसके पुत्र और पुत्री का प्रवेश तत्काल शासकीय आवासीय छात्रावासों में कराकर उनकी शिक्षा का मार्ग प्रसस्थ् किया है। उल्लेखनीय है कि उक्त दिव्यांग मंगलवार को जनसुनवाई दौरान अपनी समस्या लेकर कलेक्टर श्री प्रसाद के पास पहुंचा था। जहां उसने अपनी संतानों की शिक्षा को लेकर कलेक्टर श्री प्रसाद से अपनी चिंता व्यक्त की थी।

*मानवीय संवेदनाओं से अभिसिंचित हुई रवीना*

शंकर मंदिर के पास बैलट घाट निवासी बनौरिया सतनामी की 10 वर्षीय पुत्री रवीना इस दुनिया की उन चुनिंदा खुशकिस्मत बच्चियों में से एक मानी जा सकती है जो मानवता और मानवीय संवेदनाओं से बार बार अभिसिंचित हुई है। रवीना की छात्रावास में प्रवेश तक का सफर भी बड़ा ही रोमांचित करने वाला है। करीब 4 माह पूर्व 19 जून को घर से यह बालिका बिना किसी को कुछ बताए मुड़वारा स्टेशन पहुंच गई और वहां अनजाने में किसी ट्रेन में बैठकर सरकुंडा बिलासपुर छत्तीसगढ़ पहुंची। जहां उसे लावारिस भटकते देख एक सहृदयी ऑटो चालक ने मानवीय दृष्टिकोण और जागरूक नागरिक का कर्तव्य निभाते हुए उसकी फोटो खींच कर ये जानकारी संबंधित थाना पुलिस को दी। पुलिस ने भी इसे गंभीरता से लेते हुए तत्परता दिखाई और बालिका को अपने संरक्षण में लेकर बाल कल्याण समिति बिलासपुर के सामने प्रस्तुत किया। जहां से उसे वहां के बालिका गृह में संरक्षित किया गया। बाल कल्याण समिति द्वारा बालिका की पतासाजी के लगातार प्रयास किए गए और इन्हीं प्रयासों को सफलता दो माह बाद कटनी जिले की कोतवाली पुलिस से संपर्क स्थापित होने पर मिली। जब बालिका की गुमशुदगी के संबंध में जानकारी लेने पर कोतवाली पुलिस ने उक्त बालिका के पिता की सूचना पर अपहृत होने का मामला दर्ज होने की बात बताते हुए बालिका को दस्तयाब करने तत्काल कोतवाली पुलिस की एक टीम बिलासपुर रवाना की, जहां से उसकी सुपुर्दगी हासिल कर उसे न्यायालय में पेश कर उसके परिजनों को सौंपा गया।

*पुस्तक और स्कूल बैग मिलते ही खिल उठे चेहरे*

20 अगस्त को पुत्री रवीना उनके पिता बनौरिया और मां शकुंतला को तो मिल गई, लेकिन पुत्री रवीना और पुत्र रवि की शिक्षा दीक्षा और ऐसी घटना की पुनरावृति न हो इसकी चिंता उसके पिता को सताने लगी। इसी उधेड़बुन में बनौरिया सतनामी अपनी समस्या लेकर मंगलवार को जनसुनवाई दौरान कलेक्टर श्री प्रसाद के पास पहुंचा। जहां उसकी समस्या का तत्काल समाधान करते हुए कलेक्टर श्री प्रसाद द्वारा बालिका रवीना का प्रवेश आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा संचालित आश्रम शाला छात्रावास बडगांव की कक्षा 4 में और उसके पुत्र रवि का प्रवेश सुभाष चन्द्र बोस बालक छात्रावास कटनी में कराया गया। बुधवार को कलेक्टर श्री प्रसाद, एसपी अविजीत रंजन, सीएसपी ख्याति शर्मा द्वारा बच्चों को पुस्तकें, स्कूल बैग, टिफिन और वाटर बॉटल आदि प्रदान की गई, जिसे पाकर बच्चो के चेहरे खिल उठे। कलेक्टर श्री प्रसाद ने दोनो बच्चों से मन लगाकर पढ़ने का वादा लिया और रवीना को दोबारा घर छोड़कर न जाने की समझाइश दी।

Related posts

ग्राम पंचायत रीठी और बिलहरी को नगर परिषद बनाने भोपाल भेजा गया प्रस्ताव

MPCG NEWS

सर्पदंश से बालक की मौत पर 4 लाख की आर्थिक सहायता स्वीकृत*

MPCG NEWS

एनकेजे विद्युत मंडल सब स्टेशन के समक्ष कांग्रेस का धरना प्रदर्शन। विद्युत अपूर्ति एवं बढ़े हुए भारी भरकम बिजली बिलों के विरोध में सौपा ज्ञापन

MPCG NEWS

Leave a Comment