window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); ये सभी ग्रामीण कुत्ता है, पंचायत सचिव हर्षित ओझा - MPCG News

ये सभी ग्रामीण कुत्ता है, पंचायत सचिव हर्षित ओझा

गोपिनाथपुर पंचायत का सोशल मीडिया ग्रुप में ग्रामीण को कुत्ता और खुद को हाथी कह डाला
एसपी और एसडीओपी को हुई शिकायत जल्द होगी कार्यवाही ?

घोड़ाडोंगरी/जीत आम्रवंशी, एक तरफ प्रदेश के मुखिया माननीय शिवराज सिंह चौहान हर दिन मीडिया में आके अधिकारी सरकार कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए कह रहे हैं कि संयम बरतते हुए छोटी से छोटी परेशानियों को सुने और से दूर करें लेकिन इसके विपरीत घोड़ाडोंगरी क्षेत्र के कर्मचारी अधिकारियों के भाव अलग ही नजर आ रहे हैं उन्हें ना प्रशासन का खौफ है, ना अधिकारियों का और ना ही माननीय मुख्यमंत्री के आदेशों का इसलिए तो वह सोशल मीडिया ग्रुप में निसंकोच होकर अपशब्दों का प्रयोग कर डाला।

शिकायतकर्ता और ग्रामीणों को कुत्ता और खुद हाथी कह दिया

शिकायतकर्ता और ग्रामीणों को कुत्ता और खुद हाथी तक कह दे रहे हैं। और अपने आप को हाथी बता रहे हैं। बताए भी क्यों ना क्योंकि उन्हें भी पता है कि घोड़ाडोंगरी जैसे भ्रष्टाचारी जनपद क्षेत्र में हम पर कार्रवाई तो कुछ होना नही है ? आज तक कोई तुर्रमखां तक इनका कुछ बिगाड़ नही पाया और ये हम नही इनकी बाते बता रही है कि इनके ऊपर कौनसे भगवान का आशीर्वाद है जो इतना भ्रष्टाचार उजागर करने पे भी कोई फर्क नही पड़ता आखिर क्यों ?

ग्रामीण शिकायत करने एसपी कार्यालय पहुंचे, जल्द होगी कार्यवाही

जब बात अपने आत्म सम्मान पर आ जाये तो कोई भला कैसे सह सकता है। आब पंचायत के जिम्मेदार अधिकारी सचिव हर्षित ओझा ने ग्रामीणों को कुत्ता और खुद को हाथी कह डाला। शिकायकर्ता को भी अपशब्द कह डाला सोशल मीडिया में। तो इसकी शिकायत करने ग्रामीण पहुंचे एसपी कार्यालय एसपी मैडम ने आश्वासन दिया कि हमने सारणी एसडीओपी को फॉरवर्ड कर दिया है वहां जाकर शिकायत करवा दो कार्रवाई होगी। जिसके बाद सारणी एसडीओपी कार्यालय में शिकायत भी हुई और अब जल्द हो सकती है बड़ी कार्यवाही।

जिला सीईओ और जनप्रतिनिधियों को इस जनपद से नही है लेना देना है ?

ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि लगातार घोड़ाडोंगरी क्षेत्र में भ्रष्टाचार को उजागर कर तो देते है मगर ना जाने अधिकारी कार्यवाही नही कर पाते। फिर वह नगर परिषद हो या जनपद परिषद। यहां हो रहे भ्रष्टाचार की खबरें लगातार प्रकाशित हो रही है लेकिन ना ही कभी कलेक्टर साहब का इस और रुख देखा गया है और ना ही जनप्रतिनिधियों की और से इसमें कोई टीका टिप्पणी की गई हो।

बात करे गोपिनाथपुर पंचायत की तो वर्षो से जमे पंचायत सचिव हर्षित ओझा की हिस्ट्री निकली जाएं तो रिकवरी के नाम पर लाखों का घोटाला खुलकर आएगा एमपीसीजी न्यूज लगातार इस पंचायत में हो रहे भ्रष्टाचार को लेकर खबर लगाकर जिले में बैठे उच्च अधिकारियों को अवगत करा रहे लेकिन ना जाने हाथी बनकर गुमान से घूम रहे पंचायत सचिव हर्षित ओझा को डर भी नही है किसी अधिकारी या फिर कार्यवाही का।

Related posts

सावधान: लाडली बहना योजना का eKYC करने कियोस्क संचालक ने लिए 100 रुपए

MPCG NEWS

मुलताई: कुए में गिरकर डूबने से बुजुर्ग की मौत

MPCG NEWS

वयोवृद्ध मतदाता युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत तथा मार्गदर्शक हैं-कलेक्टर अरविंद दुबे

MPCG NEWS

Leave a Comment