window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'G-VQJRB3319M'); छिंदवाड़ा: मुआवजा नहीं जमीन के बदले जमीन मांगने कलेक्ट्रेट पहुँचे ग्रामीण - MPCG News

छिंदवाड़ा: मुआवजा नहीं जमीन के बदले जमीन मांगने कलेक्ट्रेट पहुँचे ग्रामीण

सरदार सरोवर परियोजना को लेकर न्याय मांगने आदिवासी पहुंचे कलेक्ट्रेट

छिंदवाड़ा। हम बात कर रहे हैं मोहखेड़ विकासखंड अंतर्गत आने वाले ग्राम कोहटमाल, बोरगांव, पीपलगांव, बीजागोरा, इन ग्रामो में विगत कई वर्षो से आदिवासियों का निवास चल रहा है लेकिन सरकार व्दारा सरदार सरोवर परियोजना लागू कि गई है जिससे संबंधित ग्रामो में नदी का का निर्माण कार्य होना है
संबंधित ग्राम कोहाट माल, बोरगांव, पीपलगांव, बीजागोरा में निवास कर रहे हैं तथा ग्राम में स्थित भू स्वामियों की भूमि एवं मकान व स्थिति परिसंपत्ति का अधिग्रहण कोहट माल परियोजना हेतु अधिग्रहण होगी।

उक्त परियोजना मैं ग्रामवासी अपने मकान भवन तथा परिसंपत्तियों एवं कृषि भूमि से वंचित हो जाएंगे, जिस कारण ग्रामवासी तथा उनके परिवार रिश्तेदारों को आर्थिक पारिवारिक मानसिक सामाजिक शारीरिक कठिनाइयां होगी तथा उनका जीवन संकटमय हो जाएगा।

सरदार सरोवर परियोजना मध्य प्रदेश एवं माचागोरा परियोजना जिला छिंदवाड़ा में स्थित भूमि स्वामियों की भूमि का अधिग्रहण किए जाने से उन्हें बाजार मूल्य से बहुत कम दर पर मुआवजा प्रदान किया गया है तथा जहां पर निवास हेतु विस्थापन किया गया उस जगह पर उनके लिए सड़क पानी बिजली एवं मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित किया गया है। जिस कारण ग्राम वासियों के साथ भी कई समस्या उत्पन्न होगी जिससे उन्हें अत्यंत कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। लेकिन योजना के अंतर्गत आने वाले ग्रामों में अनुसूचित जनजाति एवं अनुसूचित जाति के व्यक्ति निवास करते हैं संबंधित ग्राम निवासियों के पास उनके परिवार के सदस्यों के जीवनयापन का एकमात्र साधन कृषि भूमि है।

संबंधित ग्राम वासियों से चर्चा की गई जिस पर ग्राम वासियों का कहना है कि परियोजना में अधिग्रहित किए जाने वाली भूमि अन्य परिसंपत्तियों को वर्तमान बाजार मूल्य तथा उसका 7 गुना राशि तथा कृषि भूमि के बदले कृषि भूमि मकान के बदले मकान दिलाया जावे तथा उक्त स्थान पर मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति किया जाने के उपरांत पर योजना का कार्य पूरा किया जावे। आदिवासी बहुमूल्य क्षेत्र स्थित कोहाटमाल बोरगांव पीपल गांव बीजागोरा 90% बहुमूल्य एरिया निवासरत है जोकि इन ग्रामों के आसपास अच्छादित है इन ग्रामों के निवासी वनों से वन उपज मे महुआ, गुल्ली, चार गुठली, तेंदूपत्ता, आंवला, गोंद, कंदमूल फल आदि जंगलो से आदिवासि 75% का आय प्राप्त कर अपना जीवन यापन करते हैं जोकि वनो के बिना आदिवासियों का जीना मुश्किल है।

ग्राम वासियों का कहना है कि वन विभाग द्वारा नए नए नियम स्थापित किए गए हैं जिसमें आने वाले समय में वही पौधे हमें ऑक्सीजन बाद जलवायु में सहायक होंगे। जब गर्मी के समय में जंगलों में अंगार लग जाती है अवैध कटाई कि जाति है तो ग्राम वासियों के सहयोग से जंगल में आग बुझाई जाती है एवं अवैध कटाई रोक जाती है। ग्राम वासियों का क्या नाम यह प्रोजेक्ट महाराष्ट्र के लिए तैयार किया जा रहा है यहां नदी महाराष्ट्र में सौसर से होते हुए पाटन सोहांगी नागपुर के पास से गुजरती है तो यहां बांध नागपुर में बनना चाहिए जो पाटन सोहंगी नागपुर के पास है।

सरदार सरोवर बांध परियोजना अंतर्गत मुआवजा बहुत कम दरों पर मिल रहा है ग्राम में कुछ अधिकारी आए थे जिनसे मैंने पूछा कि सर मुआवजा कितना मिलेगा तो उन्होंने कहा कि 2लाख रू पर हेक्टर 1हेक्टर में ढाई एकड़ जमीन आती है बहुत कम दरों पर मुआवजा मिल रहा है हमारा कहना यह है कि मकान के बदले मकान और जमीन के बदले जमीन और जिसमें जमीन में हम खेती करते हैं उस जमीन में हमने स्वयं के पैसे से पानी की सुविधा के लिए बोर करवाए थे उसका भी मुआवजा हमें मिलना चाहिए इसको लेकर आज हम कलेक्ट्रेट में ज्ञापन देने आए।

Related posts

MP ब्रेकिंग: मकर संक्रांति मेले में फुल्की चाट खाने से 150 लोग बीमार, कई की हालत गंभीर

MPCG NEWS

BIG BREAKING: डेढ़ करोड़ से अधिक का धान गायब, समिति प्रबंधक समेत 3 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज

MPCG NEWS

दोषियों को हम छोड़ेंगे नहीं और निर्दोषों को हम छेड़ेंगे नहीं: मुख्यमंत्री चौहान

MPCG NEWS

Leave a Comment